कानपुर में प्रियंका ने रोड शो कर देश के लिए मांगे वोट
April 20, 2019 • Rajesh Srivastava

 

कानपुर में प्रियंका वाड्रा ने रोड शो के दौरान फूलबाग में कार्यकर्ताओं और जनता को किया सम्बोधित करते हुए सेना को OROP का उपहार पर कहा कि ये उपकार है या उनका अधिकार है , ये एहसान है कि हक़ है। प्रियंका ने कहा कि इस मानसिकता को कि जो जनता का हक़ है उसे सरकार एहसान के साथ दे रही है  इस मानसिकता को कौन बदलेगा।

प्रियंका ने कहा कि स्मार्ट सिटी का उपहार दिया पर आपको क्या मिला, पांच सालो से धोखे का सिलसिला चला आ रहा है। उन्होंने कहा कि दो करोड़ रोज़गार हर साल का वचन देने को कहा गया था, जबकि हर साल रोजगार छीना जा रहा है । प्रियंका नेे कहा कि नोट बन्दी से किसका नुक़सान हुआ है , आपको बताया गया जब आप क़तार में खड़े होगे तो देश में काला धन वापस आयेगा । काला धन वापस नहीं आया कतार में आप खड़े रहे और आपका नुक्सान हुआ। प्रियंका ने कहा की उनकी नीतियों में आपका हित नहीं बल्कि सरकार का हित रहा है और कुछ उद्योगपतियों का हित रहा है। प्रियंका ने कहा कि कानपुर में बड़े उद्योग होते थे , यहां जूते बनते थे और जैकेट का एक्सपोर्ट होता था। आज उद्योगों की क्या स्थिति है । पांच साल विकास के वादे किये गए थे , आपने इन पर विश्वास किया पर आपको क्या मिला।

प्रियंका ने कहा कि इस देश में दो तरह की राजनीति चल रही है एक राजनीति सत्ता को अपने पास रखना चाहती है। इस तरह की राजनीति को कोई समझ नहीं है कि जनता के क्या हक़ है। जबकि जनता ही इनको नेता बनाती है । प्रियंका ने कहा कि आप जब अपना हक़ मांगते है तो आपको क्या नतीजा निकलता है । प्रियंका ने कहा कि वो उत्तर प्रदेश के कोने कोने में घूम रही है , आंगन बाड़ीआशा बहुओ, शिक्षा मित्रो, मनरेगा का रोजगार , छोटे उद्योगपति और दुकानदार सब कहते है हमसे कि जब हम हक़ मांगते है , तो हमारी आवाज बंद कर  दी जाती है । प्रियंका ने कहा कि यह लोक तंत्र है और लोक तंत्र में जनता का राज होता है। 

प्रियंका ने कहा कि शहीदों ने जनता के राज के लिए अपना खून पसीना बहाया। आज की मौजूदा सरकार यह भूल गयी है कि जनता की सेवा करना उनका धर्म है। जनता की जागरूकता को सबसे बड़ी देश भक्ति बताते हुए प्रियंका ने कहा कि आप झूठे वादों से जागरूक हो जाओ। राजनेताओ को यह एहसास होना चाहिए कि उन्हें नेता बनाने वाली जनता ही है। जनता ने नेता बनाकर एहसान किया है । प्रियंका ने कहा कि हम नेता है यह आपका एहसान है। 

प्रियंका ने मोदी सरकार को दुर्बल बताते हुए मोदी को दुर्बल प्रधानमंत्री बताया और कहा कि मोदी मे कोई आत्मशक्ति नहीं है। प्रियंका ने कहा कि जनता में बहुत विवेक है आप इनकी दुर्बलता को पहचानिये। प्रियंका ने कहा कि मोदी आपके सामने 56 इंच का सीना लेकर आते है क्योंकि वो दुर्बल है। मोदी लोक तंत्र को दुर्बल बनाना चाहते है , वो चाहते है कि जनता मजबूत न बने और कोई सवाल न उठाये , विपक्षी दल सवाल ना उठाये और कोई आलोचना ना करे। 

प्रियंका ने अपने भाई की सहन शक्ति पर कहा कि उनकी रोज आलोचना की जाती है , लेकिन उनमे सहने  की शक्ति है । राहुल मुस्करा कर सहते है और खुश होते है । वो सोंचते है कि शायद मुझसे कोई गलती हो गयी हो, मुझे सुधारना चाहिए। इसे कहते , राजनितिक शक्ति , आत्म शक्ति और आत्म विश्वास है ।

प्रियंका ने कहा कि मोदी की दुर्बलता लोक तंत्र को दुर्बल बनाएगी संस्थाए को दुर्बल बनाएगी । प्रियंका ने कहा कि संविधान जब तक मजबूत रहेगा तब तक जनता मजबूत रहेगी। जनता को देश की सबसे बड़ी शक्ति बताते हुए प्रियंका ने कहा कि जनता से बढ़ कर कोई नहीं है।  पांच साल में  किसान , व्यापारी , बेरोजगार नौजवान , शिक्षक , सरकारी कर्मचारी सभी ने बहुत सह लिया है अब बदलाव लाइये। प्रियंका ने कहा कि इस चुनाव में मै कांग्रेस पार्टी के लिए नहीं देश के लिए, संविधान के लिए,

लोकतंत्र के लिए वोट मांगने आयी हूँ। प्रियंका ने कहा कि इनको जीतने मत दीजिये , अगर ये जीत गए तो पांच साल बाद आपको दुःख होगा , हमको दुःख होगा।