डॉ बीवीआर मोहन रेड्डी ने आईआईटी कानपुर को फंड स्टार्ट-अप में मदद करने के लिए दिया एक करोड़ दान
May 11, 2019 • Rajesh Srivastava

 

 

देश की प्रतिष्ठित संस्थान आईआईटी.कानपुर के पूर्व छात्र डॉ० बीवीआर मोहन रेड्डी ने आई.आई.टी.कानपुर में छात्रों की छात्रवृत्ति / स्टार्ट-अप / उद्यमियों को अपनी कंपनियों को इनक्यूबेट करने के लिए एक करोड़ रुपये का योगदान दिया है। आईआईटी के अनुसार आवेदनों के आधार पर प्रतिवर्ष 4 लाभार्थियों को छात्रवृत्ति के रूप में 18 महीने की अवधि के लिए प्रति माह 10,000 प्रदान किया जाएगा। इस छात्रवृत्ति के लिए पात्र केवल वो ही कंपनियां होंगी जो की आईआईटी कानपुर में इनक्यूबेट हुयी होंगी l यह छात्रवृत्ति आईआईटी कानपुर में ऊष्मायन पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देने में मदद करेगी और अपने परिचालन को बढ़ाने के लिए बहुत आवश्यक धन के साथ स्टार्ट-अप में मदद करेगी।

आईआईटी कानपुर ने डॉ बीवीआर मोहन रेड्डी की उदारता के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। आईआईटी के अनुसार डॉ मोहन रेड्डी की यह मदद परिसर में जीवंत नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र की प्रतिष्ठा को बढ़ाएगा और स्टार्टअप इंडिया के सपने को साकार करने के लिए अधिक से अधिक उद्यमशीलता उपक्रमों को हमारे साथ जुड़ने के लिए प्रोत्साहित करेगा।

2017 में पद्म श्री से सम्मानित डॉ बीवीआर मोहन रेड्डी एक प्रसिद्ध भारतीय इंजीनियर और व्यवसायी हैं, जिन्होंने 1991 में Cyient लिमिटेड की स्थापना की थी, वह 2014-2015 से नैसकॉम के अध्यक्ष थे। डॉ० रेड्डी ने कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, काकीनाडा से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की उपाधि प्राप्त की और आईआईटी कानपुर और मिशिगन विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर अध्ययन किया।

Cyient लिमिटेड, जिसे पहले इन्फोटेक एंटरप्राइजेज कहा जाता था, एक कंपनी है जो इंजीनियरिंग, विनिर्माण, नेटवर्क और संचालन पर ध्यान केंद्रित कर रही है। 15,000 से अधिक कर्मचारियों के साथ, कंपनी के दुनिया भर में 20 से अधिक स्थानों पर कार्यालय हैं। कंपनी को संयुक्त राज्य अमेरिका में संचालित बेस्ट इंडिया कंपनी के लिए इंडो-अमेरिकन कॉर्पोरेट एक्सीलेंस अवार्ड से सम्मानित किया गया है।