होम्योपैथिक दवा आर्सेनिक 30 कारगर बचाई जवानों की जान - डॉ ए के गुप्ता
June 13, 2020 • RAJESH SRIVASTAVA
 
होम्योपैथिक दवा आर्सेनिक 30 कारगर बचाई जवानों की जान - डॉ ए के गुप्ता
 
होम्योपैथिक दवा आर्सेनिक 30 कोविड-19 वायरस के संक्रमण से बचाव में कारगर साबित हो रही है, इसका प्रयोग कर महामारी पर नियंत्रण किया जा सकता है। उक्त उद्गार आरोग्य भारती के आयोजित "कोविड-19 का होम्योपैथिक समाधान" विषयक राष्ट्रीय वेबीनार में कोरोना से बचाव की दवा के परीक्षण में कार्य कर रहे भारत सरकार आयुष मंत्रालय के सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन होम्योपैथी के पूर्व असिस्टेंट डायरेक्टर डॉ एके गुप्ता ने व्यक्त किया।
 
डॉ गुप्ता के अनुसार लखनऊ नगर निगम के 8 जोन में कैंसर एड सोसायटी के सहयोग से दस हजार लोगों को कोरोना से बचाव के लिए आर्सेनिक एल्बम-30 बांटा गया और 10 दिन बाद दूसरी खुराक दी गयी दवा लेने के बाद लोग सुरक्षित है। इसी तरह से लखनऊ जीआरपी चारबाग में संक्रमित हुए 11 सिपाही थे , तब वहा करीब 200 लोगों को आर्सेनिक एल्बम-30 दवा बांटी गई थी। उस वक्त 25 अनुपस्थित थे, जिन्होंने दवा नहीं लिया था बाद में इन्हीं 25 में पॉजिटिव के लक्षण मिले। वही दवा लेने वाले सभी 200 सिपाही सुरक्षित है।
 
डॉ गुप्ता 2008 में होम्योपैथिक एंटीवायरल दवा पर अनुसंधान करके चर्चित हुए थे, जिसकी सीसीआरएच. एवं ट्रॉपिकल आफ मेडिसिन,वेस्ट बंगाल सरकार के संयुक्त तत्वावधान में वैज्ञानिक पुष्टि भी की गई थी। 
 
राष्ट्रीय वेबीनार में प्रथम वक्ता के रूप में गवर्नमेंट होम्योपैथिक कॉलेज भोपाल की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ जूही गुप्ता ने आरोग्य भारती के ध्येय लक्ष्य पर प्रकाश डाला। दिल्ली सरकार के आयुष निदेशक डॉ आरके मनचंदा ने बताया कि दिल्ली में होम्योपैथिक चिकित्सकों को कोविड-19 के परिपेक्ष में प्रशिक्षित किया जा रहा है। करीब दो सौ वर्षों के महामारियों के इतिहास पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने बताया कि कोविड-19 के इलाज में ब्रायोनिया, जेलसिमियम और आर्सेनिक आदि मेडिसिन समान रूप से हर जगह छन के निकल रही है। हर काल में होम्योपैथी ने श्रेष्ठ प्रदर्शन करके ही सर्वाधिक सामाजिक लोकप्रियता प्राप्त की है। 
 
राष्ट्रीय वेबीनार में राम जन्मभूमि क्षेत्र ट्रस्ट सदस्य होम्योपैथिक चिकित्सक एवं उप्र होम्योपैथिक मेडिसिन बोर्ड के रजिस्ट्रार डॉ अनिल मिश्र  ने कहा कोविड-19 पर विजय के लिए होम्योपैथी सर्वाधिक उपयुक्त है,  यह सुलभ कारगर एवं कम बजट में सभी को उपलब्ध हो सकता है। वही आरोग्य भारती के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ बीएन सिंह ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए आर्सेनिक एल्बम-30 को अधिक से अधिक लोगों को बांटने के लिए सभी सामाजिक संगठनों का आवाहन किया। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के उपचार के लिए नोसोड दवा  बनाने तथा उसके विधिवत परीक्षण करने की आवश्यकता पर बल दिया । यह नोसोड बचाव एवं उपचार दोनों में सहायक सिद्ध होगा।
 
इस वेबीनार में आरोग्य भारती काशी प्रांत अध्यक्ष डॉ इंद्रनील बसु, कानपुर प्रांत सचिव डॉ अनोखे लाल पाठक, लाल बहादुर शास्त्री होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्राचार्य डॉ हरिश्चंद्र राय , दिल्ली प्रांत के अध्यक्ष डॉ मनीष भारतीय, उज्जैन से डॉ दिवाकर पटेल, गुजरात से डाँस्वामीनारायण, काशी प्रांत के डाँ अवनीश पांडेय, डॉ राम कुमार वशिष्ठ, डॉ नंदिनी सिंह, डॉ विशाल चड्ढा, डाँ सुनील मंगल, डॉ एके श्रीवास्तव आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।