कानपुर में अखिलेश , राहुल और मायावती की जनसभा
April 24, 2019 • RAJESH SRIVASTAVA

 

 

 

 

 

कानपुर में अखिलेश , राहुल और मायावती की जनसभा

कानपुर में आज सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कानपुर लोकसभा प्रत्याशी रामकुमार निषाद के समर्थन में जनसभा किया , कांग्रेस प्रमुख राहुल गाँधी ने कानपुर लोकसभा प्रत्याशी श्रीप्रकाश जायसवाल के समर्थन में और बसपा प्रमुख मायावती ने अकबरपुर लोकसभा प्रत्याशी निशा सचान के समर्थन में जनसभा किया।

अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी गठबंधन को मिलावट बोल रही है तो 38 दल जब मिल जायेंगे तो उसे क्या बोलेंगे।बीजेपी 38 दलों के साथ देश चुनाव लड़ रही है। गोरखपुर चुनाव में लोग कहते थे कि नही जीतेंगे लेकिन जनता ने एहसास दिला दिया। 2014 में बीजेपी के बड़े बड़े नेताओं ने अच्छे दिन के वादे किये थे। नौकरी रोज़गार तो मिले नहीं छीन गयी। अखिलेश ने नोटबन्दी पर कहा कि रुपया बदल जाने से भ्रष्टाचार ख़त्म नहीं हुआ ,काला धन वापस नहीं आया। जीएसटी पर अखिलेश ने कहा कि उद्योगपतियों का व्यापार प्रभावित हुआ है। छोटे व्यापारियों और व्यापार शुरू करने वालो को फायदा नहीं मिला। अखिलेश ने स्मार्ट सिटी पर कहा की कानपुर को लिस्ट में हमने शामिल करवाया था बीजेपी ने नहीं। कानपुर में मेट्रो को लेकर अखिलेश ने कहा कि इसकी शुरुआत हमने की थी की दो साल में लोग मेट्रो से चले। अखिलेश ने कहा कि मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को धोखा दिया है , बिना टेन्डर के पीएम से मेट्रो का शिलान्यास करा दिया।

वही राहुल गाँधी ने कहा कि नरेंद्र मोदी जी ने 15 लाख का वादा किया था नहीं दिया। हिन्दुस्तान के सबसे अमीर 15 उद्योगपतियों का कर्जा माफ़ किया। नीरव मोदी , मेहुल चौकसी का जिक्र करते हुए राहुल ने कहा कि हिंदुस्तान के बैंक का पैसा ले गए। नोटेबंदी पर मोदी को घेरा , मोदी सरकार में करोडो लोगो को बेरोजगार किये जाने की बात कही , दो करोड़ रोजगार देने की बात कही थी झूठ बोला , 22 लाख सरकारी नौकरिया खाली पड़ी है मोदीजी उड़े भरना नहीं चाहती है।एक साल के अंदर कांग्रेस सरकार 22 लाख युवाओ को नौकरिया दे देगी। 10 लाख युवाओ को हिन्दुस्तान की पंचायत में रोजगार दे देगी। कानपुर के युवा उद्योग करना चाहते है यहां का उद्योग नष्ट हो गया है , आज कानपुर का युवा उद्योग शुरू करने से पहले कई डिपार्टमेंट में चक्कर लगाता है 2019 के चुनाव के बाद कोई भी युवा छोटी उद्योग स्थापित करने के लिए 3 साल तक किसी भी डिपार्टमेंट से परमिशन की जरूरत नहीं होगी। किसानो के लिए अलग से बजट होगा , शिक्षा और स्वास्थ्य में मोदी जी ने 5 साल में ढांचा नष्ट कर दिया। जीडीपी का 6 फीसदी पैसा हिन्दुस्तान की शिक्षा में डाला जायेगा । हम हाई टेक्नोलॉजी की सरकारी अस्पताल खोलेंगे। उत्तर प्रदेश का नुक्सान उत्तर प्रदेश की सरकारों ने भी किया है। यूपी का विकास में फंसा हुआ है। उत्तर प्रदेश की विधान सभा में कांग्रेस की सरकार लानी पड़ेगी।

अकबरपुर लोकसभा की बसपा प्रत्याशी के समर्थन में कानपुर के रमईपुर में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि कांग्रेस की गलत नीतियों के कारण ही वो सत्ता से बाहर है। वर्तमान में बीजेपी भी केंद्र में जातिवादी, आरएसएस की नीतियों के चलते भी बाहर हो जाएगी। इस बार इनकी कोई नाटकबाजी, जुमलेबाजी नहीं चल पाएगी। इनकी चौकीदारी भी नहीं चल पाएगी। मोदी ने जो वादे किए थे वो पूरे नहीं हुए। नोटबंदी और जीएसटी बिना तैयारी से लागू करने से गरीब परेशान हैं। कांग्रेस ने आपसे वोट लिया, लेकिन कुछ किया नहीं। कांग्रेस ने लोगों की तकलीफों को अगर दूर किया होता तो बीजेपी को मौका न मिलता। बीएसपी इनके गले के नीचे नहीं उतर रहीं, चाहे बीजेपी हो या कांग्रेस.. सपा-बसपा को रोकने के लिए ये एकजुट हो जाती हैं। चुनाव में बीजेपी ने किए वादों को ईमानदारी से नहीं निभाया। सरकार बनने पर सर्वजन सर्वजन सुखाय की नीति अपनाई जाएगी। कमजोर वर्गों के हितों का ख्याल रखा जाएगा। पूरे प्रदेश में गठबंधन का अच्छा प्रदर्शन होगा।