खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग का मिलावट पर शिकंजा 
March 9, 2020 • RAJESH SRIVASTAVA

 
खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग का मिलावट पर शिकंजा - अभिहित अधिकारी, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन, विजय प्रताप सिंह
 
औद्योगिक नगरी कानपुर नगर में होली का त्योहार आते ही मिलावट का कारोबार शुरू हो गया है। गौरतलब है कि कानपुर से बड़ी मात्रा में खान पान सहित अन्य सामाग्रियो का कारोबार होता है जो कि त्योहारो पर और बढ़ जाता है। इस दौरान बड़े पैमाने पर मिलावटी सामाग्री से बाजार रोशन रहता है। वही मिलावट पर शिकंजा कसने का दावा करने वाले सरकारी तंत्र भी सक्रीय हो गया है। मिलावट खोरों पर शिकंजा कसते हुए त्योहार में उपभोक्ताओं को मिलावट के प्रति जागरूक करने के लिए खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने एडवाइजरी जारी कर कुछ खाद्य वस्तुओं की जांच के आसान नुस्खे बताये हैं। 
 
अभिहित अधिकारी, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन, कानपुर नगर विजय प्रताप सिंह के अनुसार त्योहारों पर मिलावटखोरो पर शिकंजा कसने को लेकर विभाग सक्रीय है और कारोबारियों पर नज़र रखने के साथ टीमें बनाकर कार्यवाही और छापेमारी की जा रही है। उन्होंने कहा कि उपभोक्ताओं को भी जागरूक रहना चाहिए और किसी भी सामान की खरीद से पूर्व निर्माण तिथि, बेस्ट बिफोर या यूज बाई डेट, बैच संख्या, निर्माता का पता, एफएसएसएआइ का लोगो व रजिस्ट्रेशन अथवा लाइसेंस नंबर की जांच अवश्य कर लेनी चाहिए। 
 
उन्होंने बताया कि शुद्ध दूध और मावा खोया में मिलावट की जांच के लिए उसमे आयोडीन टिंचर डालने पर यदि रंग बदल कर नीला तो जाता है तो उसे मिलावट युक्त समझना चाहिए। वही मिलावटी खोया को रगड़ने पर छोटे छोटे टुकड़ो में बिखर जाता है, जबकि शुद्ध खोया रगड़ने पर कम तैलीय पदार्थ छोड़ने के साथ ही बत्ती की तरह बन जाता है।