मतदाता ही भाग्य विधाता है, मतदान ज़रूर करे
April 21, 2019 • RAJESH SRIVASTAVA
 
 
कानपुर में मुख्य चुनाव अधिकारी एल वेंकेटेश्वर लू ने रागेन्द्र स्वरूप आडिटोरियम में मतदाता जागरूकता अभियान कार्यक्रम में मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए अधिकारियों से कहा। उन्होंने कहा कि मतदान प्रतिशत बढाने के साथ स्वतन्त्र, निष्पक्ष मतदान के लिये निर्वाचन आयोग द्वारा मतदाताओ को अधिक से अधिक सुविधायें प्रदान की जा रही है। उन्होंने अधिकारियों से कानपुर मण्डल में मतदान प्रतिशत को 70 प्रतिशत से ऊपर ले जाने को कहा। प्रजातन्त्र को मज़बूत करने के लिये मतदान को बहुत बड़ा कर्तव्य बताते हुए उन्होंने कहा कि प्रत्येक मतदाता को अपने वोट के महत्व समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियो को चुनने का यह अच्छा अवसर है, जिसमें वह अपनी इच्छानुसार मतदान कर चुन सकते है। 
 
पत्रकारों से बात करते हुए मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने आचार संहिता उल्लंघन के मामलो पर कहा कि पुलिस की तरफ से जो भी मुकदमा होता है उसे भारत निर्वाचन आयोग परसू भी करता है। जब दो साल से ज्यादा सजा मिल जाती है या अन्य मुकदमो में दंड मिल जाती है तो वो लोग जो भी प्रतिनिधि हो ,एमएलए हो या एमपी हो अपात्र घोषित हो जाते है।  मुख्य चुनाव अधिकारी ने कहा कि इन लोगो का जवाब मतदाताओं के पास है। जो प्रत्याशी अपराध करता है, नियम उल्लंघन करता है , कोड ऑफ़ कंडक्ट का उल्लंघन करता है ऐसे अपराधी प्रवत्ति वाले लोगो को क्यों पसंद किया जाता है।
 
उन्होंने कहा कि अच्छे व्यक्ति प्रतिनिधि बने और संवैधानिक मूल्यों के अनुसार जीने वाले और देश की तक़दीर बदलने के लिए काम करने वाले प्रत्याशी बने , यह जम्मेदारी सिर्फ मतदाता का अधिकार है। ग्राम पंचायत चुनाव से लेकर लोकसभा चुनाव तक हर एक चुनाव में अच्छे प्रत्याशी बने और उत्कृष्ट व्यक्ति का चयन हो यह कार्य मतदाता ही कर सकता है क्योंकि मतदाता ही भाग्य विधाता है।