नागरिकता संशोधन बिल को लेकर राष्ट्रव्यापी महासंपर्क अभियान - कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना 
January 5, 2020 • RAJESH SRIVASTAVA

नागरिकता संशोधन बिल को लेकर राष्ट्रव्यापी महासंपर्क अभियान - कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना 

राष्ट्रव्यापी महासंपर्क अभियान के तहत से जनता के बीच सीएए के सत्य को तथ्यों के साथ जनता के बीच प्रस्तुत करने कानपुर नगर पहुंचे प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना ने विजयनगर तिराहे पर जनसभा को सम्बोधित किया।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि बांग्लादेश और अफगानिस्तान में वर्षो तक प्रताड़ित और सताये गए लोगो को नागरिकता देने के लिए यह कानून बनाया गया है। उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह ने बांग्लादेश की हालत को देखते हुए 18 दिसंबर 2003 को राज्यसभा में बयान दिया था कि, इन लोगो के लिए हिन्दुस्तान में व्यवस्था करनी चाहिए।

 

 

उन्होंने कहा कि यह कानून पाकिस्तान अफगानिस्तान और बांग्लादेश में नंबर दो के नागरिक बनकर जी रहे थे उन लोगो को जो 31 दिसंबर 2014 तक हिंदुस्तान में आये उनको सम्मानपूर्वक जिंदगी देने के लिए यह कानून बनाया गया। ऐसे लोग हिंदुस्तान में नागरिकता पाकर राशन कार्ड, वोटर कार्ड बनवा सकते है और हर प्रकार की नागरिक की सुविधा जो हिंदुस्तान की सरकार देती है पा सकते है।

कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना ने कांग्रेस, सपा और बसपा पर गैर जिम्मेदाराना रवैया, जनता में भ्रम और गलत प्रचार फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि इस कानून में किसी के खिलाफ कुछ भी नहीं है और किसी की नागरिकता छीनने की बात नहीं है। आर्टिकल 14 उन्होंने कहा कि आर्टिकल 14 में सामान परिस्थिति में सामान व्यवहार की बात कही गयी है। पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में हिन्दू वहा अल्पसंख्यक था और तीनो देशो में अल्पसंख्यक समुदाय सताया गया। जो सताये हुए थे और वहा अल्पसंख्यक थे, इसलिए उनको यहां पर नागरिकता दी गयी , मुस्लिमो को इसलिए नागरिकता नहीं दी गयी क्योंकि न तो वहाँ पर वो सताये गए और न ही वहाँ पर अल्पसंख्यक थे इसलिए आर्टिकल 14 लागू नहीं होता। सुरेश खन्ना ने कांग्रेस पर सस्ती लोकप्रियता हासिल करने और कोटा और राजस्थान में लापरवाही से हुई सैकड़ो बच्चो की मौतों का आरोप लगाया। कैबिनेट मंत्री ने कहा कि विरोध प्रदर्शन करने का सभी को अधिकार है,लेकिन हिंसा करने का किसी को अधिकार नहीं है।