रेरा से रियल स्टेट कारोबार में आयी पारदर्शिता
November 4, 2019 • RAJESH SRIVASTAVA

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में रेरा के पहले राष्ट्रीय अधिवेशन कार्यक्रम में कहा कि रेरा के जरिए इस बात का प्रयास किया जा रहा है कि जहां एक ओर मकान खरीदने वाले लोगों का पैसा डूबने न पाए वहीं दूसरी ओर भवन निर्माण के काम में लगे लोगों की समस्याओं का भी सही समाधान निकाला जा सके। उन्होंने कहा किउनकी सरकार के प्रयासों से रियल स्टेट के कारोबार में पारदर्शिता आयी है और लोगो में विश्वास बढ़ा है। उन्होंने कहा कि देश में पिछली सरकारों में मकान खरीदने के नाम पर लोगो से पैसा ले लिया जाता था और दूसरे कामों में लगा दिया जाता था। उन्होंने कहा कि रेरा का मुख्यालय भले ही लखनऊ में है लेकिन 80 प्रतिशत से ज्यादा मामले एनसीआर के है , इसीलिए लोगो की सुविधाओं को देखते हुए ग्रेटर नोएडा में इसकी एक पीठ स्थापित की गयी है। उन्होंने कहा कि अभी तक लोग उतर प्रदेश में कारोबार से डरते थे पिछले तीन वर्षों में निजी क्षेत्र में दो लाख करोड़ रुपये से भी ज्यादा का निवेश हुआ है।उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार मौजूदा प्रावधानों के तहत प्रदेश के अधिकतम 10 शहरों को स्मार्ट शहर बना सकती है ।मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार अपना काम कर रही है लेकिन प्रदेश सरकार भी इसके अलावा सात शहरों को स्मार्ट बना रही है । पिछले तीन वर्षों में एक करोड़ 10 लाख से ज्यादा घरों में बिजली का कनेक्शन दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भू सम्पदा मामलों को लेकर प्रमुख सचिव की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित की गयी है जल्द ही उसकी रिपोर्ट को लागू किया जाएगा।