रुद्राक्ष अर्थात भगवान शिव के वैदिक नामों में से एक अर्थात भगवान रुद्र (भगवान शिव) के अश्रु की बूँद
April 22, 2019 • RAJESH SRIVASTAVA

 

 
 
 

रुद्राक्ष अर्थात रुद्र” भगवान शिव के वैदिक नामों में से एक है और “अक्सा” का अर्थ है ' अश्रु की बूँद' अत: इसका शाब्दिक अर्थ भगवान रुद्र (भगवान शिव) के आसुं से है। रुद्राक्ष एक फल की गुठली है। ऐसा माना जाता है कि रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शंकर की आँखों के जलबिंदु से हुई है। इसका उपयोग आध्यात्मिक क्षेत्र में किया जाता है। मान्यता है इसे धारण करने से सकारात्मक ऊर्जा मिलती है। रुद्राक्ष शिव का वरदान है, जो संसार के भौतिक दु:खों को दूर करने के लिए प्रभु शंकर ने प्रकट किया है।

भारत और नेपाल में रुद्राक्ष के माला पहनने की एक पुरानी परंपरा है विशेष रूप से शैव मतालाम्बियों में जो उनके भगवान शिव के साथ उनके सम्बन्ध को दर्शाता है । रुद्राक्ष एक प्रकार का बीज होता है एवं यह परंपरागत रूप से हिंदू धर्म विशेष रूप से शैववाद में प्रार्थना के माला के के रूप में प्रयोग किया जाता है। 

शिव खुद रुद्राक्ष माला पहनते हैं एवं ओम नमः शिवाय मंत्र का जाप भी रुद्राक्ष माला का उपयोग करके दोहराया जाता है । यद्यपि महिलाओं के रुद्राक्ष पहनने पर कोई विशिष्ट प्रतिबंध नहीं है, लेकिन महिलाओं के लिए मोती जैसे अन्य सामग्रियों से बने मोती पहनना आम बात है। यह माला हर समय पहना जा सकता है, केवल स्नान करते समय इसको उतार देते हैं पानी रुद्राक्ष बीज को हाइड्रेट कर सकते हैं।

रुद्राक्ष हिंदू देवता भगवान शिव से जुड़ा हुआ हैं एवं आमतौर पर भक्तों द्वारा सुरक्षा कवच के तौर पर या ओम नमः शिव मंत्र के जाप के लिए पहने जाते हैं। ये बीज मुख्य रूप से भारत और नेपाल में कार्बनिक आभूषणों और माला के रूप में उपयोग किए जाते हैं एवं अर्द्ध कीमती पत्थरों के समान मूल्यवान होते हैं। संस्कृत में मुखी (संस्कृत: मुखी) का मतलब चेहरा होता है इसलिए मुखी का अर्थ रुद्राक्ष का मुख है, एक मुखी रुद्राक्ष का अर्थ एक मुंह वाला रुद्राक्ष या एक मुह खोलने के साथ, ४ मुखी रुद्राक्ष का मतलब रुद्राक्ष ४ मुंह या खोलने के साथ है। रुद्राक्ष १ से २१ मुख के साथ आता है।

एकमुखी रुद्राक्ष भगवान शिव, द्विमुखी श्री गौरी-शंकर, त्रिमुखी तेजोमय अग्नि, चतुर्थमुखी श्री पंचदेव, पन्चमुखी सर्वदेव्मयी, षष्ठमुखी भगवान कार्तिकेय, सप्तमुखी प्रभु अनंत, अष्टमुखी भगवान श्री गेणश, नवममुखी भगवती देवी दुर्गा, दसमुखी श्री हरि विष्णु, तेरहमुखी श्री इंद्र तथा चौदहमुखी स्वयं हनुमानजी का रूप माना जाता है। 
इसके अलावा श्री गणेश व गौरी-शंकर नाम के रुद्राक्ष भी होते हैं। रूद्राक्ष प्रत्येक हिन्दू को पहनना चाहिए।

एकमुखी रुद्राक्ष ऐसा रु द्राक्ष जिसमें एक ही आँख अथवा बिंदी हो। स्वयं शिव का स्वरूप है जो सभी प्रकार के सुख, मोक्ष और उन्नति प्रदान करता है।
द्विमुखी रुद्राक्ष सभी प्रकार की कामनाओं को पूरा करने वाला तथा दांपत्य जीवन में सुख, शांति व तेज प्रदान करता है।
त्रिमुखी रुद्राक्ष समस्त भोग-ऐश्वर्य प्रदान करने वाला होता है।

 

चतुर्थमुखी रुद्राक्ष धर्म, अर्थ काम एवं मोक्ष प्रदान करने वाला होता है।
पंचमुखी रुद्राक्ष सुख प्रदान करने वाला।

 

षष्ठमुखी रुद्राक्ष पापों से मुक्ति एवं संतान देने वाला होता होता है।
सप्तमुखी रुद्राक्ष दरिद्रता को दूर करने वाला होता है।
 
अष्टमुखी रुद्राक्ष आयु एवं सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करने वाला होता है।
नवममुखी रुद्राक्ष मृत्यु के डर से मुक्त करने वाला होता है।

 

दसमुखी रुद्राक्ष शांति एवं सौंदर्य प्रदान करने वाला होता है।

इंडोनेशिया मूल के गणेश मुख रुद्राक्ष ग्यारह मुखी रुद्राक्ष विजय दिलाने वाला, ज्ञान एवं भक्ति प्रदान करने वाला होता है।

बारह मुखी रुद्राक्ष धन प्राप्ति कराता है। 
तेरह मुखी रुद्राक्ष शुभ व लाभ प्रदान कराने वाला होता है।
चौदह मुखी रुद्राक्ष संपूर्ण पापों को नष्ट करने वाला होता है।
नमः शिवाय , शिव शरणम