समुद्र में जाने वाले मरीन वेस्ट पोलूटेंट्स और प्लास्टिक ड्राई वेस्ट की स्टडी के लिए कोचीन, पोर्ट ब्लेयर सहित कानपुर को भारत सरकार ने किया शामिल , जर्मन से आये 7 सदस्यीय दल ने किया निरिक्षण  
August 23, 2019 • RAJESH SRIVASTAVA

 
 
समुद्र में जाने वाले मरीन वेस्ट पोलूटेंट्स और प्लास्टिक ड्राई वेस्ट की स्टडी के लिए कोचीन, पोर्ट ब्लेयर सहित कानपुर को भारत सरकार ने किया शामिल , जर्मन से आये 7 सदस्यीय दल ने किया निरिक्षण  
 
स्मार्ट सिटी बनने की दौड़ में शामिल औद्योगिक नगरी कानपुर में प्रदूषण कम करने के लिए जिला प्रशाशन, नगर निगम सहित प्रदेश और केंद्र सरकार लगातार प्रयासरत है। इसी क्रम में जर्मनी से 7 सदस्यीय दल कानपुर पहुँचा। जर्मन दल के साथ नगर निगम के अधिकारियों ने बैठक कर शहर के कूड़े को निस्तारित और व्यवस्थित करने पर भी चर्चा किया। इस दौरान टीम के सदस्यों ने सॉलि़ड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट का निरिक्षण किया और अधिकारियों के साथ बैठक किया। 
 
नगर आयुक्त ने पत्रकारों से बताया कि गंगा के द्वारा समुद्र में जाने वाले मरीन वेस्ट पोलूटेंट्स और प्लास्टिक ड्राई वेस्ट को लेकर जर्मन टीम निरिक्षण कर रही है। इसी क्रम में भारत सरकार द्वारा देश में तीन शहरो को चुना गया है जिसमे कोचीन, पोर्ट ब्लेयर और कानपुर शामिल है। नगर आयुक्त ने बताया कि जर्मन टीम शहर का निरिक्षण कर टोटल वेस्ट प्रोडक्शन के साथ प्लास्टिक वेस्ट का आंकलन करेगी। उन्होंने बताया की इस दौरान कानपुर से जेनेरेट होने वाले वेस्ट के साथ प्लास्टिक ड्राई वेस्ट मैनेजमेंट के लिए भी कुछ सुझाव मिल सकेंगे। इसी क्रम में केंद्र और प्रदेश सरकार को रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी। उन्होंने बताया कि जी - 20 समिट में समुद्र की एक्वेटिक लाइफ की सुरक्षा को लेकर इस पर चर्चा की गयी थी। जिसको लेकर भारत सरकार द्वारा तीन प्रमुख शहरो को प्रारंभिक स्टडी के चुना गया है।