स्टार्टअप एक्सपो 
November 7, 2019 • RAJESH SRIVASTAVA

अत्याधुनिक नवाचार प्रदर्शित करने के लिए स्टार्टअप एक्सपो 

आईआईटी कानपुर ने अत्याधुनिक नवाचारों को प्रदर्शित करने के लिए स्टार्टअप एक्सपो आयोजित किया गया। उत्तर प्रदेश स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर आईआईटी कानपुर में स्टार्टअप शोकेस कार्यक्रम - 'अभिव्यक्ति 2019 का आयोजन किया गया। इसमें भारत सरकार के विभिन्न निकायों के अधिकारी सहित व्यवसाय और उद्योग जगत के अग्रणी लोग और स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर समर्थित अन्वेषक शामिल हुए।

इस कार्यक्रम का उद्घाटन अनुभवी निवेशक डॉ. सौरभ श्रीवास्तव, पूर्व प्रमुख NSTEDB DST हरकेश मित्तल, अपर मुख्य सचिव यूपी सरकार आलोक सिन्हा और आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने किया। अभिव्यक्ति 2019 में, चयनित स्टार्टअप्स ने भारतीय सरकार के कुछ प्रमुख निकायों के प्रभावशाली कर्मियों, निवेश फर्मों और उद्योग जगत के अग्रणी लोगों के समक्ष अपने नवाचार दिखाए।  

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव, यूपी सरकार आलोक सिन्हा ने कहा कि “स्टार्टअप राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर हमारे सामने आने वाली कई सामाजिक आर्थिक चुनौतियों का एक समाधान है। आईआईटीके के स्टार्टअप कई तरह के क्षेत्रों में समस्याओं का समाधान करने के लिए नवाचार और प्रौद्योगिकी का एक बड़ा संयोजन करते हैं।

उप महासचिव फिक्की निरंकार सक्सेना ने कहा कि आईआईटी कानपुर जैसे प्रमुख इंजीनियरिंग संस्थानों के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि लगातार एक मजबूत उद्योग और ग्राहक जुड़ाव बना रहे। इसके लिए यह आवश्यक है कि कई ऐसे उद्योगों के साथ पर नियमित रूप से बातचीत की जाये और तकनीक के व्यावसायीकरण की विशेषज्ञता का लाभ उठाया जाये।

इस अवसर पर आईआईटी कानपुर स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर ने भारत में व्यापारिक संगठनों का संघ द फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (FICCI) के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया। गौरतलब है कि 1927 में जीडी बिड़ला और पुरुषोत्तम दास ठाकुरदास द्वारा महात्मा गांधी की सलाह पर स्थापित, यह इनक्यूबेटर के नेटवर्क का विस्तार करने के लिए भारत में सबसे बड़ा, सबसे पुराना और सर्वोच्च व्यापारिक संगठन है।

इसके अलावा, स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर आईआईटी कानपुर ने गुडेरा (Goodera) के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए, जिसमें सामाजिक उद्यमियों के लिए एक पूर्ण समाधान पर काम किया गया है, जो उनकी प्रत्येक सफलता की कहानी में निगम की भागीदारी की अनुमति देगा। इस साझेदारी के साथ, गुडेरा और स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर एक साथ काम करेंगे ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि इस देश में सामाजिक उद्यमिता का भविष्य उज्ज्वल और सुरक्षित है।

निदेशक, आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर अभय करंदीकर ने कहा की आईआईटी कानपुर के गहन प्रौद्योगिकी स्टार्टअप भारत में सबसे अच्छे नवाचारों के साथ बराबरी पर है। इंजीनियरिंग और चिकित्सा के अभिसरण के प्रमुख क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी व्यवसाय से संबंधित गतिविधियों को समेकित करने के लिए एक महान संस्थान स्तरीय अभियान चला है। स्टार्टअप इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर कानपुर अब दुनिया भर में एक अग्रणी प्रौद्योगिकी व्यवसाय इनक्यूबेटर बनने के लिए तैयार है।